मई 26, 2024

टीबी के लिए एक क्रांतिकारी टीका नैदानिक ​​अनुसंधान और विकास के तहत है

Reading Time: 3 minutes

न्यूक्रैड हेल्थ हिंदी

(टीबी) – दुनिया में सबसे भयानक बीमारियों में से एक है। भारत सहित कई देशों में मृत्यु
का एक प्रमुख कारण है टी बी।2018 में, अनुमानित 10 मिलियन लोग इस घातक बीमारी
के शिकार हुए हैं। उनमें से, अनुमानित 1.5 मिलियन रोगी इसके हमले से बच नहीं सके।
इनमें से लगभग 251000 पीड़ित एचआईवी संक्रमित भी थे। बच्चे, साथ ही वयस्क, टीबी
के ज्ञं जीवाणु से संक्रमित हो सकते हैं। 2018 में, लगभग 1.1 मिलियन बच्चों में टीबी के
जीवाणु पाए गए थे, इन रोगियों में से, अनुमानित 251000 बच्चों ने इस बीमारी के कारण
दम तोड़ दिया।दुनिया भर के चिकित्सक और वैज्ञानिक एक प्रभावी टीका विकसित करने के
लिए निरंतर प्रयास कर रहे हैं जो पहले से ही प्रचलित बीसीजी जैब (BCG jab) की
तुलना में इस बीमारी को रोकने में अधिक शक्तिशाली होगा।

https://videowiki.wmflabs.org/en/videowiki/Wikipedia:VideoWiki/Tubercu
losis?wikiSource=https://en.wikipedia.org

नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, टीबी विशेषज्ञ डेविड लेविनोशन के नेतृत्व में वैज्ञानिकों की
एक टीम ने एक क्रांतिकारी टीका विकसित किया है जो बीमारी के खिलाफ दीर्घकालिक
सुरक्षा प्रदान करेगा। डेविड लेविनोशन और उनके साथियों ने टीबी के लिए एक नया टीका विकसित किया है जो प्राथमिक जाचं पार कर चुका है। उन्होंने इसे टीबी जीवाणु से प्रोटीन से निकाला, और यह वैक्सीन शॉट प्राप्त करने के बाद शरीर के भीतर एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ा देता है। वैज्ञानिक इस इंजेक्शन को मेडिकल साइंस में एक वास्तविक गेम-चेंजर के रूप में करार दे
रहे हैं क्योंकि यह उन रोगियों में भी प्रभावी होगा जो पहले से ही माइकोबैक्टीरियम
ट्यूबरकुलोसिस (Mycobacterium tuberculosis) संक्रमण से पीड़ित हैं।

नए क्रांतिकारी टीबी वैक्सीन की वर्तमान स्थिति क्या है?

वैज्ञानिकों ने पहले ही दक्षिण अफ्रीका, केन्या और जाम्बिया के स्थानिक क्षेत्रों में 3500 से
अधिक वयस्कों पर इस टीके के नैदानिक ​​परीक्षण चलाए हैं। उन्होंने इसका परीक्षण चूहों,
गिनी पिग और गैर-मानव प्राइमेट्स पर किया है। डेविड लेविनोशन और उनकी टीम ने
हाल ही में हैदराबाद में आयोजित फेफड़े स्वास्थ्य पर एक वैश्विक शिखर सम्मेलन में इस
टीके के कामकाज को प्रस्तुत किया है। अगर चीजें योजना के अनुसार चलती हैं, तो वैक्सीन
2028 तक बाजार में आ सकती है। वर्तमान में, आबादी के एक बड़े समूह में वैक्सीन की
सुरक्षा और दक्षता निर्धारित करने के लिए परीक्षण चल रहे हैं। बड़े पैमाने पर नैदानिक
​​परीक्षणों के माध्यम से एकत्र किए गए डेटा की पुष्टि करने के बाद, वैक्सीन बाजार में
उपलब्ध हो सकती है यदि यह नियामक एजेंसियों (जैसे यूएस, ईयू) से स्वीकृति प्राप्त करती
है। शोध दल को उम्मीद है कि यह 2028 तक लोगो तक पहुंच सकता है। प्रसिद्ध दवा
कंपनी, ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन (GlaxoSmithKline) पिछले बीस वर्षों से इस टीबी
वैक्सीन पर काम कर रही है।

टीबी क्या है?

टीबी के इलेक्ट्रॉन माइक्रोग्राफ टीबी एक संक्रामक बीमारी है जो मनुष्य के फेफड़ों को प्रभावित करती है। माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस (Mycobacterium tuberculosis) टीबी का कारक एजेंट है। यह संक्रमित व्यक्ति से खांसी, छींक या थूक के माध्यम से स्वस्थ लोगों में फैलता
है। इस बीमारी के दो रूप हैं- अव्यक्त और सक्रिय। अव्यक्त रूप में, रोगज़नक़ मनुष्य के
शरीर के भीतर एक निष्क्रिय स्थिति में रहता है। यह संक्रामक नहीं है और किसी भी लक्षण
का उत्पादन नहीं करता है। हालांकि, यह भविष्य में सक्रिय रूप में बदल सकता है। सक्रिय
टीबी में, जीवाणु संक्रामक है, सक्रिय अवस्था में मौजूद है, और लक्षण पैदा करता है। भारत
(27%), चीन (9%), इंडोनेशिया (8%), और पाकिस्तान (6%) जैसे देश इस बीमारी की
अधिक घटनाओं को दर्शाते हैं। हालांकि, समय पर उपचार और सही दवाओं के सेवन से
बीमारी को पूरी तरह से ठीक किया जा सकता हैं।

टीबी के लक्षण क्या हैं?

टीबी के सक्रिय रूप के दौरान, यह खांसी, बुखार, रात को पसीना, थकान और ठंड पैदा
करता है। खांसी तीन सप्ताह से अधिक समय तक रहती है और अक्सर इसके साथ खून भी
निकलता है। हालांकि, टीबी शरीर की हड्डियों, मस्तिष्क, यकृत, गुर्दे और हृदय के अन्य
अंगों में भी फैल सकता है और विभिन्न प्रकार के लक्षण पैदा कर सकता है। यह हड्डियों में
रीढ़ की हड्डी में दर्द और जोड़ों के विनाश, मस्तिष्क में मैनिंजाइटिस (meningitis), किडनी
को प्रभावित करने पर मूत्र में रक्त, और हृदय में मौजूद होने पर कार्डियक टैम्पोनैड (cardiac tamponade) का कारण बनता है।
अगर चीजें योजना के अनुसार चलती हैं तो कुछ वर्षों के भीतर टीबी अतीत की बीमारी हो
सकती है। अच्छे की कामना करते है।